Sant Shri Asharamji Bapu

Sant Shri Asharamji Bapu is a Self-Realized Saint from India, who preaches the existence of One Supreme Conscious in every human being.

Search This Blog

संत श्री आशारामजी बापू

भारत के संत श्री आशारामजी बापू आत्मज्ञानी संत हैं, जो मानवमात्र मे एक सच्चिदानंद इश्वर के अस्तित्व का उपदेश देते है

अगर तुम न मिलते



अगर तुम न मिलते, मैं तो भटकता
मानव जन्म लक्ष्‍य मैं न समझता

संसार की जाल फँसता रहता
नाते और जाती के मोह उलझता
उनको मनाने में जीवन को खोता
नश्वर की चादर में हँसता और रोता
अगर - - -

भोगों के दलदल में मैं खप जाता
इन्द्रीय घोड़ों पे अंधा बन चढ़ता
चढ़ता और पड़ता, ये जीवन धूल करता
आकर्षणी आँख लेखर के गिरता
अगर - - -

रागी विकारी मैं पागल हो जाता
रावण सा बनकर मैं देह में फूलता
द्वेषी मैं होता और सबको दुख देता
बनके पतंगा मैं जल-जल के मरता
अगर - - -

धन कीर्ति का मैं ढेर करता
उनको कमाने में क्या क्या करता
सुत दारा अपने हैं अपना समझता
देह मूढ़ता में जन्मता और मरता
अगर - - -

वाणी मधुरी मैं कैसे श्रवणता
सतसंग अमरीता कैसे घूंट भरता
ईश्वर के दर्शन से वंचित रहता
गुरु राम मेरे हैं कैसे समझता
         अगर - - -

मंदिर तीरथ में जाके रगड़ता
आत्म तीरथ से दूर रहता
भोगी बन भोगों के पीछे ललकता ( गुरुवर )
आत्म सुख सच्चा कैसे समझता .....
अगर तुम न होते मै तो भटकता
भोगी बन भोगो के पीछे ललकता

समता और धीरता से कैसे मैं चलता
त्याग-विवेक का ज्ञान न मिलता
दृश्य को सच्चा समझ के चिपकता
दृष्‍टापने का जो पाठ न मिलता ......
अगर तुम न होते मै तो भटकता 

गुरुवर में गंगा और तीर्थ है सारे
गुरुवर ने ही तो कितनो को तारे
अगर तुम न होते मै तो भटकता 
जीवन निरर्थक बिताता

संसार की जाल मै फसता रहता
नाते और नाती के मुंह उलझता
उनको मनाने में क्या कुछ करता  -
अगर तुम न होते मैं तो भटकता

No comments:

Post a Comment

There was an error in this gadget